क्या हंता वायरस से भारतीयों को डरने की जरुरत है ?

0
5

” कोरोना वायरस गया नही कि दूसरा आ गया ” ऐसे मैसेज आज कल व्हाट्सप्प पर बहुत घूम रहे हैं सिर्फ व्हाट्सप्प पर ही नहीं हर जगह ऐसे मैसेज घूम रहे हैं जिसके कारण लोगो में और ज्यादा दर उत्पन्न हो रहा है | क्या सच में हंता वायरस ख़तरनाक साबित हो सकता है ? आज हम इसी वायरस के बारे में बात करेंगे |

हंता वायरस का डर लोगों में क्यों है ?

अभी कोरोना वायरस के कारण लोगों  मृत्यु हो रही थी लेकि हाल ही में चीन के युन्नान प्रान्त में हंता वायरस के कारण एक व्यक्ति की मृत्यु हो गयी जिसके कारण लोगों में अब हंता वायरस का डर है और भारत के लोग भी इस वायरस के कारण डरे हुए हैं |

क्या इस घटना के कारण लोगो को इस वायरस से डरने की जरुरत है ?

हंता वायरस कोई नया वायरस नहीं है इससे पहले भी भारत और अन्य देशों  में  हन्ता वायरस से संक्रमित लोग पाए गए हैं | हंता वायरस पल्मोनेरी सिंड्रोम (एचपीएस) है जो कि चूहों के संपर्क में आने से फैलता है। चीन में हुई मृत्यु के कारण भारतीय लोगो को हंता वायरस से डरने की जरुरत नहीं है | 15 -20% चूहे ही हंता वायरस से संक्रमित होते हैं लेकिन फिर भी बहुत काम लोग इस वायरस से संक्रमित होते हैं | इसका एक बड़ा कारण यह भी है कि यह वायरस धूप के संपर्क में आने के थोड़ी देर बाद ही मर जाता है | यह वायरस इंसान से इंसान में भी नहीं फैलता है |

READ  पालीताणा - कानूनी तौर पर दुनिया का पहला शाकाहारी शहर

क्या हंता वायरस कोरोना वायरस जैसा फैलेगा ?

नहीं , कोई व्‍यक्ति चूहों की लार, मल-मूत्र या उनके बिल की चीजें वगैरह छूने के बाद अपनी आंख, नाक और मुंह को छूता है तो उसमें हंता वायरस का संक्रमण फैल सकता है। कोरोना वायरस की तरह हंता वायरस हवा में नहीं फैलता है और यह वायरस इंसान से इंसान में भी नहीं फैलता है |

लक्षण

हंता वायरस से संक्रमित होने पर  बुखार, सिर में दर्द, सांस लेने में परेशानी, बदन दर्द होता है। इसके अलावा हंता वायरस से संक्रमित होने पर पेट में दर्द, उल्‍टी, डायरिया भी हो जाता है। इलाज में देरी होने पर संक्रमित इंसान के फेफड़े में पानी भी भर जाता है।

हंता वायरस का पहला केस कहाँ से आया ?

पहली बार इस वायरस के संक्रमण का मामला मई 1993 में दक्षिण पश्चिमी अमेरिका से आया था। ये चार कोनों- एरिजोना, न्यू मेक्सिको, कोलोराडो और उटाह का क्षेत्र था। न्यू मेक्सिको में इस वायरस से एक युवा शख्स और उसकी मंगेतर की मौत हुई थी। सीडीसी ने अपनी रिपोर्ट में कनाडा, अर्जेंटीना, बोलीविया, ब्राजील, चिली, पनामा, पैरागुए और उरागुए से भी इस तरह के मामले आने की पुष्टि की है।

 

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here